Monday, January 26, 2009

स्लम डॉग्स

कल शाम ही तो मनु के साथ स्लम डॉग्स करोरपति देखी । कुछ अलग सी फ़िल्म थी , क्या वाकई भारत का असली चेहरा यही है ? अगर हाँ ,तो विदेशी ही ये चेहरा क्यों दिखाते है ? क्या हमारे अन्दर इतनी हिम्मत नही है कि हम अपने चेहरे का विद्रूप देख सकें ? या सच इसके कुछ उलट है ? विदेशियों को भारत कि गन्दगी ही क्यों दिखाई देती है ?

3 comments:

  1. रूबी जी, दरअसल हम अपनी गरीबी में इतने आत्मसात हो चुके हैं कि हमें ये अपने से अलग नहीं दिखती तो दिखाएं क्या..?
    हमें उनकी अमीरी और उन्हें हमारी गरीबी दिखती है. ये बात माननी पड़ेगी. खैर.....

    ReplyDelete
  2. aap ka sochna sahi hai,lekin jo dikhaya gaya vo bharat ki gandagi nahi ek sachhai hai.kadvi sachhai.jisay badalna hamari jimmaidari hai.

    ReplyDelete
  3. is bar lagta hai oscar nominetion ke liye koi jaandar flim n aai,ye luck by chance ki baat hai ki slumdog ko oscor mil gaya.hanlaki is se bhi behtareen hindi flim bani hai.jo nominetion mein gayee thi.lekin tough competition k karan lot aai.
    khair, kal rehmann sahab ko oscar mila. aacha laga.desh kr liye bahut fakr ki baat hai.lekin aashchariye hua mumbai ke liye tou bole, lekin kia unke muh se do shabd desh ke liye na nikakl paye?

    ReplyDelete